Tuesday, October 5, 2010

अर्जी....

Dear Bhagwanji...

ek arji pesh hai....
meri shikayat hai, aur sawal bhi... mom kise jada pyar karti hai???
aaj mom se katti hu.... haa katti... waise to sabse jada blogging karti hai.. dinbhar online rehti hai sabke b'day matlab janmdin par badhaiyan deti hai online (iska hindi word nahi pata), par mere b'day par mere liye koi post nahi likhi...
puchne par..excuse (bahana) diya ki.. itni badi ho gayi hai ab tere liye bhi post likhu b'day ki.?? aur ye bhi-- sabke b'day par unki photo (taswir) lagati hu.. tere b'day par kya lagati???
aur fir daughter's day (bitiya diwas) par bade shaan se photo laga di.... ab agar meri taswir lagani he nahi thi to.. daughters' day par bhi nahi lagati...... hai na??
ab aaj bhaiya ka b'day hai to subah savere se priya putra k liye post chipka di net par.... ab batao bhala ye koi baat hai???
maine to cake par bhi likhwa diya for "MOM's FAV."
ab jara faisla sunaiye ki mom kisse jada pyaar karti hai..?

ek condiion hai.... mom ki taraf se koi safai nahi suni jayegi... wo sabko apne paksh mein karne ki kshamta rakhti hai...

14 comments:

उन्मुक्त said...

अरे मां से कट्टी। वे तो भगवान की बनाई सबसे प्यारी हैं।

देवनागरी में क्यों नहीं लिखतीं पढ़ने में भी आसान रहती है।

zindagi k panno se... said...

@ unmukt ji..
mom se katti hu isliye to unhe saja de rahi hu.. hindi ko english mein likh kar...
mere blog par pehla comment apka hai.... dhanyawad...
ab bataiye bhala.. agar mummy ko chinta hoti mere katti hone se, to mujhe manane ki koshish nahi karti????

nilesh said...

Namaskar Pallavi ji, jan kar atyant dukh hua hai ki ap maa se katti hai par koi bat nahi kuch din maa ko aaram milega ap ki chapar chapar se, ek bat to aaj pata chal hi gai hai ki bhagwan k ghar der hai andher nahi............

संजय कुमार चौरसिया said...

pallavi

maa humesha sabse jyada beti ke paas hoti hai
aur pyar bhi sabse jyada beti ko hi karti hai, aap yah baat janti hain, aapke janm din par aap yah mahsoos karna

दीपक 'मशाल' said...

ch ch ch.... :P

उन्मुक्त said...

पल्लवी जी आज तो मां का जन्ददिन है। इस पर कुछ तो देवनागरी में लिखो।

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Zakir Ali 'Rajnish') said...

पल्‍ल्‍वी जी,

आरज़ू चाँद सी निखर जाए,
जिंदगी रौशनी से भर जाए,
बारिशें हों वहाँ पे खुशियों की,
जिस तरफ आपकी नज़र जाए।
जन्‍मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ!
------
ब्‍लॉग समीक्षा की 23वीं कड़ी।
अल्‍पना वर्मा सुना रही हैं समाचार..।

निर्मला कपिला said...

जन्‍मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ!

संजय भास्कर said...

पल्लवी जन्मदिन की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

संजय भास्कर said...

पल्लवी जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं

Rajiv said...

डियर पल्लवी,जन्मदिन की ढ़ेरों शुभकामनाएं एवं बधाइयाँ.मां के प्रति तुम्हारा गुस्सा भी दीदी के प्रति तुम्हारे लगाव का ही परिणाम है.तुम और वत्सल तो उनकी जान हो,तुम्हारी उपेक्षा का मतलब होगा मातृत्व की उपेक्षा जो मां के हाथों कभी संभव ही नहीं है.दीदी तुम दोनों के बारे में ढ़ेरों बातें बताती रहती हैं.ऑनलाइन लोगों तक तक तो उनके स्नेह का एक कतरा-भर पहुंचता है.स्नेह का समंदर तो तुम दोनों के ही पास है.रही वत्सल और तुम्हारे बीच अंतर करने की बात तो इसका उत्तर तुमसे अच्छा कौन दे सकता है.इमानदार लेखन के लिए बहुत-बहुत बधाई.अपनी भावनाओं को कागज पर ईमानदारी से उतारती रहना.ईश्वर तुम्हारे साथ है क्योंकि दीदी जैसी मां तुम्हारे साथ है.ब्लॉग की शुरुआत के लिए इससे अच्छा विषय कोई नहीं हो सकता था.ब्लॉग के लिए बधाई.Both of you are "MOM's FAV."be it on kake or on earth.God bless you with all happiness and grace in life.Keep writng.

संजय कुमार चौरसिया said...

पल्लवी जन्मदिन की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

Mukesh Kumar Sinha said...

:)... ham bhi pallavi ke saath hain...!!
chalo kahin dharna dete hain:)

संजय भास्कर said...
This comment has been removed by the author.